Diwali 2019: घर पर कैसे बनाएं काजू कतली, पढ़ें दिवाली पर पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, लक्ष्मी आरती

Diwali 2019: घर पर कैसे बनाएं काजू कतली, पढ़ें दिवाली पर पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, लक्ष्मी आरती
happy diwali
Diwali 2019: घर पर कैसे बनाएं काजू कतली, पढ़ें दिवाली पर पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, लक्ष्मी आरती
Diwali 2019: घर पर कैसे बनाएं काजू कतली, पढ़ें दिवाली पर पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, लक्ष्मी आरती

Diwali 2019 Date: अगर आप सोच रहे हैं कि दिवाली कब है (When is Diwali 2019), तो हम आपको बता दें कि साल 2019 में दिवाली 27 अक्टूबर को भारत के ज्यादातर हिस्सों में मनाई जा रही है. Lyrics001.com

Diwali 2019: साल 2019 में दिवाली 27 अक्टूबर को मनाई जा रही है.Diwali 2019: साल 2019 में दिवाली 27 अक्टूबर को मनाई जा रही है.

Diwali 2019: दिवाली हिंदू धर्म में एक बड़ा त्योहार है. इस साल दिवाली 27 अक्टूबर को मनाई जा रही है. दिवाली का पर्व पूरे पांच दिनों का होता है. इन पांच दिनों में धनतेरस (Dhanteras), छोटी दिवाली (Chhoti Diwali), बडी दिवाली (Badi Diwali), गोवर्धन पूजा (Govardhan Pooja) और भाई दूज (Bhai Dooj) शामिल हैं. आमतौर पर यह दिवाली अक्टूबर या नवंबर के महीने में ही आता है. दिवाली का महत्व हर किसी के लिए खास है. इस दिन धन-धान्य की प्राप्ति के लिए मां लक्ष्मी की पूजा (Laxmi Puja) की जाती है. दिवाली पर पूजा करने की विधि जानकर पूजा करने से लाभ मिलने की बातें कही जाती हैं. लेकिन यह भी माना जाता है कि दिवाली पूजा शुभ मुहूर्त पर ही की जानी चाहिए. तो चलिए हम आपको बताते हैं दिवाली की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त (Diwali Muhurat) के बारे में- 

हर घर में धन की वृद्धि और कारोबर में बरकत बने रहने के लिए लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है. लेकिन क्या आपको मालूम है कि सभी भगवानों को पूजने की विधि या तरीका अलग होता है. सभी को अलग सामग्रियां चढ़ाई जाती हैं सबके लिए अलग मंत्र होता है. आज यहां आपको माता लक्ष्मी को पूजने की पूरी विधि को बता रहे हैं ताकि आपको इनका पूरा आर्शीवाद मिल सके. तो चलिए एक नजर में देखते हैं इस साल दिवाली पूजा किस दिन है, पूजा का समय क्या है और मां लक्ष्मी का पूजन दिवाली पर कैसे किया जाना चाहिए- 

 

इस दिवाली घर पर बनाएं काजू की बर्फी, काजू कतली रेसिपी | Kaju Katli Recipe

काजू की बर्फी बहुत ही लोकप्रिय मिठाई है दिवाली जैसे बड़े-बड़े त्योहारों में हर घर में आपको काजू की बर्फी देखने को मिलेगी. काजू की बर्फी को काजू कतली भी कहा जाता है. यह एक ऐसी मिठाई है जिसे आप आसानी से घर भी बना सकते हैं. 

Diwali 2019: इस दिवाली पर Kaju Katli को घर पर ही बनाएं.  

काजू की बर्फी की सामग्री

250 ग्राम काजू
250 ग्राम चीनी
240 ग्राम दूध
चांदी का वर्क
(बर्फी जमाने के लिए) घी लगा बर्तन

काजू की बर्फी बनाने की वि​धि

1. सबसे पहले काजू और दूध को एक साख मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें.
2. पेस्ट में चीनी डालें. हल्की आंच पर पकाएं. जब चीनी घुल जाए, तो मिक्सचर को एक बार उबाल लें.
3. मीडियम आंच पर मिक्सचर को चलाते रहे. जब मिक्सचर पैन का किनारा छोड़ने लगे और गूंथे हुए आटे की तरह हो जाए, तो इसे आंच से उतार लें.
4. घी लगे बर्तन पर निकालें. करीब ¼ और 1/8 मोटे पीस में जमाने के लिए रख दें.
5. ऊपर से चांदी का वर्क लगाएं. ठंडा होने के लिए रख दें.
6. डायमंड शेप में काटकर सर्व करें.

Diwali 2019: इस बार दिवाली पार्टी में मेन्यू में शामिल करें ये स्वादिष्ट रेसिपीज़ और अपने गेस्ट्स को करें इम्प्रेस

 

दिवाली 2019: तिथि और कैलेंडर - Diwali 2019 Dates in India & Calendar

 

त्योहार का नाम (Diwali 2019 Dates) त्योहार की तिथि (Diwali Festival)
धनतेरस 2019 (Dhanteras 2019) 25 अक्टूबर 2019
छोटी दिवाली /नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi 2019) 26 अक्टूबर 2019
बड़ी दिवाली/ लक्ष्मी पूजन (Badi Diwali/ Lakshmi Pujan 2019) 27 अक्टूबर 2019
गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja 2019) 28 अक्टूबर 2019
भाई दूज/भाऊ बीज (Bhai Duj/Bhau Beej 2019) 29 अक्टूबर 2019

 

 

Diwali 2019: दिवाली पूजा विधि और शुभ मुहूर्त | Diwali Puja Vidhi and Shubh Muhurat 

दिवाली : 27 अक्‍टूबर 2019 
अमावस्‍या प्रारंभ: 27 अक्‍टूबर 2019, दोपहर 12:23 से 
अमावस्‍या समाप्‍त: 28 अक्‍टूबर 2019, 09:08 तक
दिवाली पर लक्ष्‍मी पूजा मुहूर्त: 27 अक्‍टूबर को रात 6:42 से 8:12 तक

 

Annakut Recipe: पढ़ें अन्नकूट रेसिपी, कैसे गोवर्धन पूजा पर बनाएं अन्नकूट

 

दिवाली पूजन की विधि | Diwali Puja Vidhi

तो चलिए एक नजर में समझ लेते हैं कि कैसे करें दिवाली पूजन - Diwali Puja Vidhi

- हिंदू धर्म में कोई भी पूजन प्रारंभ करते हुए इसकी शुरुआत गणेश पूजन से की जाती है. तो दिवाली पूजन (Diwali Pujan 2019) में सबसे पहले श्री गणेश जी का ध्यान करें. इसके बाद गणपति को स्नान कराएं. उन्हें नए वस्त्र और फूल अर्पित करें. इसके बाद देवी लक्ष्मी का पूजन शुरू करें. मां लक्ष्मी की प्रतिमा को पूजा स्थान पर रखें. मूर्ति में मां लक्ष्मी का आवाहन करें. हाथ जोड़कर उनसे प्रार्थना करें कि वे आपके घर आएं. अब लक्ष्मी जी को स्नान कराएं. स्नान पहले जल फिर पंचामृत और फिर वापिस जल से स्नान कराएं.  उन्हें वस्त्र अर्पित करें. वस्त्रों के बाद आभूषण और माला पहनाएं. इत्र अर्पित कर कुमकुम का तिलक लगाएं. अब धूप व दीप जलाएं और माता के पैरों में गुलाब के फूल अर्पित करें. इसके बाद बेल पत्थर और उसके पत्ते भी उनके पैरों के पास रखें. 11 या 21 चावल अर्पित कर आरती करें. आरती के बाद परिक्रमा करें. उन्हें भोग लगाएं और पूजन के दौरान 'ऊँ महालक्ष्मयै नमः' मंत्र का जप करते रहें.

Weight Loss Boosting Drinks: 3 ड्रिंक्स जो वजन घटाने में करेंगे मदद

 

दिवाली 2019  : तिथि, समय और दिवाली पर लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त - Diwali 2019: Dates, Calendar, Lakshmi Puja Muhurat

दिवाली कब और क्यों मनाई जाती है

When Is Diwali Celebrated: हर साल कार्तिक महीने (Kartik Month) की अमावस्या को दिवाली का त्योहार मनाया जाता है. आज हम आपको बताते है कि दिवाली क्यों मनाई जाती है और इसकी अहमियत (Importance Of Diwali) क्या है. माना जाता है कि दिवाली के दिन ही भगवान राम 14 सालों के वनवास पूरा कर अयोध्या नगरी वापस लौटे थे. राम के आने की खुशी में अयोध्यावासियों ने पूरे नगर को दीपों से रौशन किया था.

Diwali 2019: इस दिवाली पर Kaju Katli को घर पर ही बनाएं.  

काजू की बर्फी की सामग्री

250 ग्राम काजू
250 ग्राम चीनी
240 ग्राम दूध
चांदी का वर्क
(बर्फी जमाने के लिए) घी लगा बर्तन

काजू की बर्फी बनाने की वि​धि

1. सबसे पहले काजू और दूध को एक साख मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें.
2. पेस्ट में चीनी डालें. हल्की आंच पर पकाएं. जब चीनी घुल जाए, तो मिक्सचर को एक बार उबाल लें.
3. मीडियम आंच पर मिक्सचर को चलाते रहे. जब मिक्सचर पैन का किनारा छोड़ने लगे और गूंथे हुए आटे की तरह हो जाए, तो इसे आंच से उतार लें.
4. घी लगे बर्तन पर निकालें. करीब ¼ और 1/8 मोटे पीस में जमाने के लिए रख दें.
5. ऊपर से चांदी का वर्क लगाएं. ठंडा होने के लिए रख दें.
6. डायमंड शेप में काटकर सर्व करें.

Diwali 2019: इस बार दिवाली पार्टी में मेन्यू में शामिल करें ये स्वादिष्ट रेसिपीज़ और अपने गेस्ट्स को करें इम्प्रेस

 

दिवाली 2019: तिथि और कैलेंडर - Diwali 2019 Dates in India & Calendar

 

त्योहार का नाम (Diwali 2019 Dates) त्योहार की तिथि (Diwali Festival)
धनतेरस 2019 (Dhanteras 2019) 25 अक्टूबर 2019
छोटी दिवाली /नरक चतुर्दशी (Narak Chaturdashi 2019) 26 अक्टूबर 2019
बड़ी दिवाली/ लक्ष्मी पूजन (Badi Diwali/ Lakshmi Pujan 2019) 27 अक्टूबर 2019
गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja 2019) 28 अक्टूबर 2019
भाई दूज/भाऊ बीज (Bhai Duj/Bhau Beej 2019) 29 अक्टूबर 2019

 

 

Diwali 2019: दिवाली पूजा विधि और शुभ मुहूर्त | Diwali Puja Vidhi and Shubh Muhurat 

दिवाली : 27 अक्‍टूबर 2019 
अमावस्‍या प्रारंभ: 27 अक्‍टूबर 2019, दोपहर 12:23 से 
अमावस्‍या समाप्‍त: 28 अक्‍टूबर 2019, 09:08 तक
दिवाली पर लक्ष्‍मी पूजा मुहूर्त: 27 अक्‍टूबर को रात 6:42 से 8:12 तक

 

दिवाली पूजन की विधि | Diwali Puja Vidhi

तो चलिए एक नजर में समझ लेते हैं कि कैसे करें दिवाली पूजन - Diwali Puja Vidhi

- हिंदू धर्म में कोई भी पूजन प्रारंभ करते हुए इसकी शुरुआत गणेश पूजन से की जाती है. तो दिवाली पूजन (Diwali Pujan 2019) में सबसे पहले श्री गणेश जी का ध्यान करें. इसके बाद गणपति को स्नान कराएं. उन्हें नए वस्त्र और फूल अर्पित करें. इसके बाद देवी लक्ष्मी का पूजन शुरू करें. मां लक्ष्मी की प्रतिमा को पूजा स्थान पर रखें. मूर्ति में मां लक्ष्मी का आवाहन करें. हाथ जोड़कर उनसे प्रार्थना करें कि वे आपके घर आएं. अब लक्ष्मी जी को स्नान कराएं. स्नान पहले जल फिर पंचामृत और फिर वापिस जल से स्नान कराएं.  उन्हें वस्त्र अर्पित करें. वस्त्रों के बाद आभूषण और माला पहनाएं. इत्र अर्पित कर कुमकुम का तिलक लगाएं. अब धूप व दीप जलाएं और माता के पैरों में गुलाब के फूल अर्पित करें. इसके बाद बेल पत्थर और उसके पत्ते भी उनके पैरों के पास रखें. 11 या 21 चावल अर्पित कर आरती करें. आरती के बाद परिक्रमा करें. उन्हें भोग लगाएं और पूजन के दौरान 'ऊँ महालक्ष्मयै नमः' मंत्र का जप करते रहें.

दिवाली 2019  : तिथि, समय और दिवाली पर लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त - Diwali 2019: Dates, Calendar, Lakshmi Puja Muhurat

दिवाली कब और क्यों मनाई जाती है

When Is Diwali Celebrated: हर साल कार्तिक महीने (Kartik Month) की अमावस्या को दिवाली का त्योहार मनाया जाता है. आज हम आपको बताते है कि दिवाली क्यों मनाई जाती है और इसकी अहमियत (Importance Of Diwali) क्या है. माना जाता है कि दिवाली के दिन ही भगवान राम 14 सालों के वनवास पूरा कर अयोध्या नगरी वापस लौटे थे. राम के आने की खुशी में अयोध्यावासियों ने पूरे नगर को दीपों से रौशन किया था

Diwali 2019: कहा जाता है कि भगवान कृष्ण ने इसी दिन नरकासुर नामक राक्षस को मारा था.

 

मां लक्ष्मी की आरती | आरती लक्ष्मीजी: ओम जय लक्ष्मी माता- Lakshmi Mata ki Aarti

पूजन के दौरान आपको मां लक्ष्मी की आरती गानी होती है. जो इस प्रकार है- 

 

ओम जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता
तुम को निश दिन सेवत, हर विष्णु विधाता....
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

उमा रमा ब्रह्माणी, तुम ही जग माता
सूर्य चंद्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

दुर्गा रूप निरंजनि, सुख सम्पति दाता
जो कोई तुमको ध्याता, ऋद्धि सिद्धि धन पाता
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

तुम पाताल निवासिनी, तुम ही शुभ दाता
कर्म प्रभाव प्रकाशिनी, भव निधि की त्राता
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

जिस घर तुम रहती सब सद्‍गुण आता
सब संभव हो जाता, मन नहीं घबराता
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता
खान पान का वैभव, सब तुमसे आता
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

शुभ गुण मंदिर सुंदर, क्षीरोदधि जाता
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई नर गाता
उर आनंद समाता, पाप उतर जाता
ओम जय लक्ष्मी माता...।।

Source By:- khabar.ndtv